©
Search

किसान की बेटी दौड़ी 3 km 12.5 मिनट में, अब लाएगी गोल्ड। सेल्वी पारीक


पूजा बिश्नोई मेहेज 3 साल की थी जब एक बार अपने दोस्तो के साथ दौड़ते हुए हर गई थी। तब उसने अपनी लड़की के साथ दौड़ने वाली यह इच्छा अपने चाचा को जताई और कहा मुझे दौड़ना सिखाओ। पूजा के मामा और जोधपुर निवासी कहते है, " पूजा बहुत ही बढ़िया दौड़ी मगर रेस हर गई।"

सवरण पूजा के मामा स्वयं एक खिलाड़ी है, जो स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया से जुड़े हुए है। मगर एक घातक चोट के बाद उन्हे अपना खेल छोड़ना पड़ा। एक महीने की ट्रेनिंग के बाद जब उन्ही लडको के साथ पूजा को दौड़ाया गया तो वो सबसे नजदीकी दौड़ने वाले लड़के से सिर्फ 20 मीटर की दूरी पर थी।

आज उसी एक छोटी सी शुरुआत के बाद से पूजा अपने परिवार को गौरवान्वित करवा रही है, सिर्फ 9 साल की उम्र में। 2017 में पूजा ने 10 km सिर्फ 48मिनट में दौड़ी थी, एक मैराथन के लिए। अपने "सिक्स पैक एब्स" के लिए भी वे जानी जाती है।

उसके ट्रेनिंग वीडियो देखते हुए विराट कोहली फाउंडेशन से उस मदद मिली।पूजा के हौसले और मेहनत करने की काबिलियत से खुश होकर उन्होंने उसे प्रोत्साहित और मदद करने के लिए हामी भरी। पूजा 3000 मीटर , 1500 मीटर और 800 मीटर में कई गोल्ड हासिल कर चुकी है। एक सीधे साढ़े घर से आने के बावजूद भी मेहनत से ना हारने पर अब किसान की बेटी जल्द ही देश को ओलंपिक्स में गोल्ड दिलाएगी।



 
 
 
©
©
Performance Art
©
  • Lavender Foundation _ Logo (2)
  • Untitled design (15)
  • YouTube
  • Twitter
  • LinkedIn
  • Facebook
  • Instagram

Stay Up-To-Date with New Posts

Community, Creator, Felicity, Art, Fashion, Photo

main@createfelicity.com

+91 8822157180

© 2020 Felicity | Creators Community